BreakingDesh VideshEXCLUSIVEUttarakhandVishesh Khabar

दूरदर्शन और संगीत के नामचीन सितारों द्वारा आजादी की सालगिरह पर देश को सौगात, धूम मचा रहा है दिलो को छू लेने वाला यह गीत ” ये देश है मेरी जान “

फ्रंट पेज न्यूज़ की ओर से आजादी की 71वीं सालगिरह पर सभी देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं

दिल्ली,

आपने आजादी के बहुत से गीत सुने होंगे मगर बहुत दिनों बाद जश्ने आजादी के मौके पर आया है एक ऐसा गीत जिसने आते ही मचा दी है धूम। संगीत की दुनिया के नामी गिरामी युवाओं की टीम ने दूरदर्शन के लिए खास आजादी की सालगिरह पर इस गीत को तैयार किया है। देश प्रेम की भावना से ओत प्रोत इस गीत को दूरदर्शन की टीम ने कड़ी मेहनत के बाद तैयार किया है। इस गीत को आवाज दी है मशहूर गायक शंकर महादेवन ने, जबकि इस गीत के बोल लिखे है देश और दुनिया मे विख्यात उभरते हुए गीतकार आलोक श्रीवास्तव और संगीत की धुनों से सजाया है जाने माने संगीतकार दुष्यंत ने।

आलोक श्रीवास्तव ने इस गीत में एक एक शब्द इस तरह से पिरोया है कि आप सुनेंगे तो आपके दिलो को झंकृत कर देगा और शंकर महादेवन ने जिस तरह से इस गीत को गाया है उससे लगता है कि गीत के सुर उनके दिल से निकल रहे हो।

आलोक श्रीवास्तव उभरते हुए युवा गीतकार कवि और गजलकार है। उनके कविता संग्रह,आमीन और कहानी संग्रह आफ़रीन उनके सबसे चर्चित रहे है। गुजराती,मराठी और पंजाबी समेत विभिन्न भारतीय भाषाओं के अलावा उनके कार्यों का अनुवाद रूसी और जापानी में किया गया है। उन्होंने प्रसिद्ध उर्दू कवियों द्वारा कई किताबें भी संपादित की हैं।

आलोक श्रीवास्तव के लिखे गीत और गजल जगजीत सिंह, पंकज उधास, तलत अज़ीज़, कैलाश खेर, रिचा शर्मा, मालिनी अवस्थी, शुभा मुद्गल के अलावा बॉलीवुड अभिनेता अमिताभ बच्चन जैसे कलाकारों ने अपनी आवाज में गाये है। साहित्य अकादमी के दुष्यंत कुमार पुरस्कार के बाद उन्हें सबसे कम उम्र में अंतरराष्ट्रीय पुश्किन पुरस्कार भी मिला है। ब्रिटिश हाउस ऑफ कॉमन्स में उन्हें सम्मानित किया गया और सम्मानित फिराक गोरखपुरी पुरस्कार भी उन्हें मिला हुआ है।

आजादी के इस नए तराने को आवाज दी है गायक शंकर महादेवन ने। शंकर महादेवन संगीत की दुनिया का प्रसिद्ध नाम है। पार्श्व गायन के लिए 3 राष्ट्रीय पुरस्कार और संगीत निर्देशन के लिए एक राष्ट्रीय पुरस्कार उनके नाम है। 1998 में महादेवन की पहली म्यूजिक एलबम “ब्रिथलेस” ने शंकर महादेवन को वॉलीवुड में एक मुकाम दिलाया। इस एल्बम में महादेवन ने एक सांस में गीत गाये थे। शंकर ने अपने दो साथियों एहसान और लॉय के साथ मिलकर ट्राइओ बनाया। उंन्होने अपनी एक शंकर महादेवन अकेडमी खोल रखी है जिसमे वह दुनिया भर के संगीत के छात्रों को ऑनलाइन भारतीय संगीत सिखाते है।

शंकर महादेवन ने तारे जमीं पर, माय नेम इज खान, अनिल कपूर की पुकार, एक और एक ग्यारह, मिशन काश्मीर, डॉन 2, कुछ कुछ होता है, दिलवाले जैसी मशहूर फिल्मों के गीत गाये है।
इस गीत में संगीत दुष्यंत का है जो संगीत की दुनिया मे तेजी से उभरता हुआ नाम है।

यकीन मानिए बहुत दिनों बाद आजादी के जश्न पर ऐसा गीत सुनने को मिल रहा है जिसमें देश पर मर मिटने का जज्बा है, तिरंगे की आन बान और शान के लिए कुछ भी कर गुजरने का हौसला है, देश की एकता और अखंडता का संदेश और अलग अलग जाति और धर्मो में बंटे लोगो के लिए नसीहत भी है। तो आप भी जरूर सुनिए जश्ने-आजादी के मौके पर आजादी के इस तराने को।

Show More

Related Articles

Close